0
1064

वशीकरण का आसान टोटका

निम्नलिखित मंत्र को सूर्य या चंद्रग्रहण के समय 2०16 बार जपने से यह चैतन्य हो जाता है। प्रयोग के समय पूजा वाली एक सुपारी को गंगाजल से धोकर निम्नवत मंत्र द्वारा उसे 31 बार अभिमंत्रित करके जिसको भी खिला देंगे, वह वशीभूत हो जाएगा। मंत्र में ‘ अमुक ‘ की जगह इच्छित स्त्री अथवा पुरुष का नाम बोलें।

मंत्र इस प्रकार है-

ॐ नमो अप्सरा उर्वशी सुपारी काम निगारी राजा परजा खरी पियारी मंत्र पढ़ि लगाऊ तोहि हिया कलेजा लावै तोहि जीवता चाटे पगतली मूवा संग मसान जो ‘ अमुक ‘ वश्य न होय तो जती हनुमन्त की आन। शब्द सांचा पिण्ड कांचा फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा।

ध्यान रखने योग्य बाते

मंत्र का जाप केवल ग्रहण के समय मे ही करें

मंत्र के प्रयोग से पहले अपने आप को स्नान आधी से शुद्ध कर लीजिये

आप इस मंत्र का प्रयोग केवल एक बार ही कर सकते हो

मंत्र चैतन्य के बाद आप पूजा किसी भी वक्त कर सकते हैं

सुपारी साबुत होनी चाहिए

किसी भी वशीकरण के लिए आप हमे हमारे दिये गए नंबरो पर संपर्क कर सकते है

Easy Vashikaran Mantra

Chanting the following mantra by chanting 2016 or 2016 during sun or lunar eclipse, it becomes chaitanya.

At the time of experiment, washing a beetle with gangaajal, by sacrificing 31 times by the following mantra, whomever feeding you, it will become subdued.

In the mantra speak the name of the desired woman or man in place of ‘so-so’.

The mantra is as follows:

ॐ नमो अप्सरा उर्वशी सुपारी काम निगारी राजा परजा खरी पियारी मंत्र पढ़ि लगाऊ तोहि हिया कलेजा लावै तोहि जीवता चाटे पगतली मूवा संग मसान जो ‘ अमुक ‘ वश्य न होय तो जती हनुमन्त की आन। शब्द सांचा पिण्ड कांचा फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा।

Think fit

Chant the mantra only at the time of eclipse

Before using the mantra, cleanse yourself with a bath etc.

You can use this mantra only once

After Mantra Chaitanya, you can worship at any time

Must be betel nut

For any conspiracy you can contact us at our given number.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here